बागेश्वर धाम वाले बाबा की कुछ कड़वी सच्चाईया। कभी नही बताते बाबा यहां बाते । बाबा के चमत्कार का पर्दा पास । देखें पूरी सच्चाई

बागेश्वर धाम

बागेश्वर बाबा का यह सच जानते हैं। क्या आप

पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के दरबार में नेता से लेकर अभिनेता तक हाजिरी लगाते हैं बाबा की शक्ति में कितनी सच्चाई है कौन है वह बाबा जो बता देते हैं। आपकी मन की बात बागेश्वर धाम की पुजारी और प्रसिद्ध कथा वाचक धीरेंद्र कृष्ण महाराज आजकल चर्चा का विषय बने है और ईस चर्चा के विवादित बयान और दरबार लगाने का तरीका । और अनजान व्यक्ति को सीधा नाम लेकर बुलाने की दिव्य शक्ति।

बागेश्वर महाराज के नाम से प्रसिद्ध धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री और बड़ी तादाद में आशीर्वाद लेने वालों में देवेंद्र फडणवीस जैसे कई नेता है। और वरुण जैसे अभिनेता भी शामिल है। आपको बता दें कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जन्म 4 जुलाई 1996 को हुआ था उनके पिता का नाम राम कृष्ण गर्ग और माता का नाम सरोज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री शुरू में सत्यनारायण भगवान की कथा करते थे और बाद में छतरपुर के गांव बालाजी हनुमान मंदिर के पास कथा करने लगे और धीरे-धीरे दरबार में भक्तों की भीड़ बढ़ने लगी।

 महाराज के दरबार में बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। भक्त बताते हैं कि महाराज की अर्जी किस्मत से लगती है। और इसके लिए कई दिनों का इंतजार भी करना पड़ता है। इतना ही नहीं देश विदेशों से भी उनसे मिलने पहुंचते हैं। बता दें उनके भक्त बताते हैं कि पंडित वीरेंद्र शास्त्री जी अपने दरबार में किसी भी व्यक्ति को बुलाते हैं जब तक पहुंचता है। बाबा उसका पर्चा बना देते ही और जो लिखा होता है वो सच होता है ।

कैसे जानते हैं लोगों के मन की बात

दरअसल इस सिद्धि को कर्ण पिसाचीनी के नाम से जाना जाता है। यहां इस प्रकार है जिस प्रकार बागेश्वर धाम के संत धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री और पंडोखर धाम के संत गुरु शरण महाराज किसी व्यक्ति के सामने आते ही । उसके बारे में जानकारी देना शुरू कर देते हैं। उसका नाम और उसके परिवार जनों के नाम वह क्या करते हैं  और यहां तक कि वह आपसे मिलने आया है । यह बता दिया जाता है और इस चमत्कार को देखकर लोग हैरान रह जाते हैं।

माना जाता है कि कर्ण पिशाचिनी सिद्धि तंत्र विद्या है जिसमें हर सवाल का जवाब एक अनोखी ताकत कान में आकर बता देती है। और यह जवाब सिर्फ उसी को सुनाई देता है। जिसके पास यह विद्या है। इस सिद्धि को प्राप्त करने के बाद आप किसी आलोकिक ताकत से जब चाहे संपर्क साध सकते हैं।   

क्या कर्ण पिसाचिनी विद्या को पाना आसान है

माना जाता है कि इस विधा को प्राप्त करने के लिए काफी कड़ी तपस्या करनी पड़ती है इसको प्राप्त करने के लिए काफी कठिन साधना से होकर गुजरना पड़ता है। एक बार को प्राप्त करने के बाद इंसान साधारण इंसान नही रहता। वह एक दिव्य इंसान बन जाता है।

बताया जाता है। कि कर्ण पिशाचिनी सिद्धि को हासिल करने के बाद वशीकरण और पास मंत्र के जरिए किसी व्यक्ति के मन की बात पल भर में हासिल की जा सकती है। कोई अलौकिक शक्ति इस सक्ति को हासिल करने वाले के कान में वह सभी जानकारी आकर बता जाती है। जो वह जानना चाहता है इसलिए इस विद्या का नाम कर्ण पिशाचिनी पड़ा।