साइबर फ्रॉड से कैसे बचे-सिर्फ एक गलती के कारण हो सकता है आपका बैंक अकाउंट खाली

साइबर फ्रॉड से कैसे बचे 

साइबर फ्रॉड से कैसे बचे -देश में जितनी तेजी से डिजिटल लेनदेन में इजाफा दर्ज किया गया है उतनी तेजी से साइबरफ्रॉड भी बड़े हैं। और आज ही लोकसभा में केंद्रीय गृह राज्य मत्री ने जानकारी दी है और कहा है कि 1 जनवरी 2020 से अब तक 3 सालों में साइबर क्राइम के 16 लाख से ज्यादा मामले सामने आए। और 32000 मामलों में एफआइआर भी दर्ज की गई है। सरकार ने दावा किया है कि इन 3 सालों में 180 करोड़ से ज्यादा cyber-frod हुआ हे। ट्रांजैक्शंस को रोकने में सफलता हासिल हुई है। साइबर फ्रॉड को रोकने के लिए ओटीपी का नियम आया। और अब ओटीपी का तोड़ साइबर ठगों ने सिम स्वैपिंग के जरिए निकाल लिया है।

सिर्फ एक गलती से हो सकता है बैंक अकाउंट खाली

इसकी जानकारी सरकार को भी है इसलिए पिछले महीने ही भारत सरकार के दूरसंचार विभाग की तरफ से एक नया सिम कार्ड नियम लाया गया और नए नियम के तहत सभी टेलीकॉम कंपनियों को निर्देश दिए गए हैं कि नए सिम के एक्टिवेट उन्हीं के 24 घंटे तक SMS की इनकमिंग और आउटगोइंग सुविधा को बंद रखा गया। और नए नियम के मुताबिक सिम कार्ड के नंबर बदलने की रिक्वेस्ट मिलने के बाद टेलीकॉम ऑपरेटर को ग्राहक को इसका नोटिफिकेशन भेजना होगा इसके अलावा सिम कार्ड धारक को आईवीआरएस कॉल के जरिए सिम कार्ड नंबर बदलने की पुष्टि करनी होगी। 

सरकार ने लागू किया नया नियम

सिम कार्ड के जरिए होने वाले बैंक शार्ट को रोकने के मकसद से यह नया सिम कार्ड नियम पेश किया गया है लेकिन सिर्फ नियम बनाने से साइबर फ्रॉड नहीं रुकेंगे इसके लिए लोगों को भी जागरूक और सतर्क होना पड़ेगा क्योंकि साइबर अपराधी ऐसे लोगों को अपना शिकार बनाते हैं जो अपने फाइनेंशियल ट्रांजैक्शंस को लेकर और सावधानी बरतते हैं। और यह सच्चाई है इसलिए हमारा मकसद हमारा उद्देश्य ही था कि हम आपको सावधान करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *